Friday, September 23, 2022
Homeस्वास्थ्यनींबू के फायदे | नींबू के छिलके के फायदे | 20 घरेलू...

नींबू के फायदे | नींबू के छिलके के फायदे | 20 घरेलू नुस्खों में नींबू का इस्तेमाल

नींबू के फायदे और नुकसान, नींबू के औषधीय गुण, नींबू के फायदे फोर स्किन, चेहरे पर नींबू लगाने के फायदे और नुकसान, फेस पर नींबू लगाने के फायदे, चेहरे पर नींबू कैसे लगाएं, नींबू के छिलकों का उपयोग कैसे करें?, नींबू के छिलके से मोटापा कैसे कम करें?, नींबू के छिलके को चेहरे पर लगाने से क्या होता है?, नींबू के छिलके खाने से क्या होता है?.

आज के लेख में हम आपको नींबू के अलग-अलग तरीकों से सेवन करने के फायदे बताएंगे, नींबू के छोटे लेकिन बेहद जरूरी घरेलू नुस्खे, नींबू के छिलके के फायदे, नींबू के रस के फायदे, नींबू के फायदे, नींबू का इस्तेमाल कई तरह की समस्याओं में, लिम्बु ना फायदा। हिंदी में, हिंदी में नींबू के स्वास्थ्य लाभ, हम देंगे विस्तृत जानकारी

नींबू | लिम्बु

आज हम आपसे खट्टे स्वाद के बारे में बात करने जा रहे हैं लेकिन शरीर के लिए फायदेमंद हैं और छोटे से लेकर बड़े तक सभी के लिए नींबू, नींबू की कीमत से हम सभी परिचित हैं।

प्राचीन काल से विद्यमान यह फल आयुर्वेद में सबसे आगे है। आयुर्वेदिक ग्रंथों में इसकी उपयोगिता का विस्तार से वर्णन किया गया है। नींबू की कई किस्में हैं जिनमें पेपर लेमन, जम्मीरी लेमन, बिजोरा, कन्ना लेमन, गधा लेमन, वाइल्ड लेमन शामिल हैं।

संतरा, अंगूर, पपना, खट्टे, संतरा आदि भी नींबू परिवार के फल हैं लेकिन वे कम खट्टे और अधिक मीठे होते हैं।

इन सभी प्रकारों में पेपर लेमन में सबसे अधिक औषधीय गुण होते हैं। यह सबसे उत्तम और लाभकारी भी है। पेपर नींबू को आमतौर पर नींबू के रूप में जाना जाता है। कागज के नींबू दो प्रकार के होते हैं।

1- चमकदार त्वचा के साथ पतले घरेलू रंग का पीडी

2- मोटी पीली त्वचा।

दोनों ही मामलों में एक पूर्ण पाचन तंत्र होता है। इसमें से अच्छी खासी दिलचस्पी आती है।

हम नींबू के अलग-अलग व्यंजन बना रहे हैं। नींबू विटामिन-सी का एक मूल स्रोत है, हम जानते हैं कि अन्य सभी फल पके होने पर मीठे होते हैं, जबकि नींबू पके होने पर खट्टे होते हैं।

हेल्थ टिप्स: जानिए किसका घी सेहत के लिए अच्छा है गाय या भैंस?

नींबू के फायदे | नींबू के औषधीय गुण क्या है?

नींबू के फायदे नींबू के छिलके के फायदे 20 घरेलू नुस्खों में नींबू का इस्तेमाल
नींबू के फायदे नींबू के छिलके के फायदे 20 घरेलू नुस्खों में नींबू का इस्तेमाल

वैज्ञानिक मत के अनुसार नींबू में साइट्रिक एसिड की मात्रा अधिक होती है। इसमें 2.5% एसिड की मात्रा होती है। लेकिन जब यह पच जाता है तो यह लवण में परिवर्तित हो जाता है और भोजन से उत्पन्न होने वाले खट्टेपन को दूर कर रक्त को शुद्ध करता है।

नींबू में प्रोटीन, वसा, प्राकृतिक नमक, शर्करा, कैल्शियम, पोटाश, फास्फोरस और आयरन भी होते हैं।

हम सभी जानते हैं कि नींबू हमारी सेहत के लिए फायदेमंद होता है अगर हम नींबू पानी का सेवन करते हैं तो हम नींबू पानी बनाते हैं, इसे सलाद और दाल में मिलाते हैं ताकि यह स्वादिष्ट बने और इसके फायदे भी हों.

अगर इसका सेवन सरलता से किया जाए तो यह बहुत अच्छे परिणाम देता है

नींबू के फायदे नींबू के छिलके के फायदे 20 घरेलू नुस्खों में नींबू का इस्तेमाल
नींबू के फायदे नींबू के छिलके के फायदे 20 घरेलू नुस्खों में नींबू का इस्तेमाल

नींबू का उपयोग विभिन्न बीमारियों के घरेलू उपचार

नींबू कौन सी बीमारी में काम आता है?

1. पेट फूलने की स्थिति में नींबू का प्रयोग

इस समस्या के कारण पेट और छाती में सूजन आ जाती है। लीवर की कार्यक्षमता धीमी हो जाती है। चिंता और द्वेष बढ़ता है। पेट में गैस बनने से तेज दर्द होता है। इसे दूर करने के उपाय इस प्रकार हैं।

आधा कप आंवले का रस लें, उसमें एक नींबू निचोड़ें और भोजन के बाद इसका सेवन करें।

मेथी की सब्जी बनाकर उसमें आधा नींबू निचोड़ कर खाने में लाभ होता है।

आधा कप पत्ता गोभी का रस लेकर उसमें आधा नींबू डुबोकर रखने से भी लाभ होता है।

आधा चम्मच अदरक का रस और आधा चम्मच नींबू का रस मिलाकर सुबह-शाम सेवन करें।

2. पेट दर्द में नींबू का प्रयोग

पेट भारी लगता है, पेट में दर्द, सूजन, भूख न लगना, कब्ज, अत्यधिक दस्त, पेट में दर्द होता है। कभी-कभी चक्कर भी आ जाते हैं। इसे दूर करने के उपाय नीचे दिए गए हैं।

थोड़ी सी हिंग, थोड़ी अदरक और एक चुटकी सेंधा नमक मिलाकर उसमें आधा नींबू निचोड़ लें।

एक चुटकी नमक, अजमो, जीरा, काली मिर्च, हींग और लिंडी काली मिर्च लें और उसमें एक नींबू निचोड़ लें।

नींबू को आधा काट लें और उसमें काली मिर्च, जीरा, अजमोद और तिल का पाउडर डालें।

एक चुटकी छोटे झुण्ड के चूर्ण के ऊपर एक नींबू के रस में आधा गिलास पानी मिलाकर पीने से भी आराम मिलता है।

3. एसिडिटी में नींबू के फायदे

इस रोग के कारण खट्टी डकारें आना, छाती में सूजन, बेचैनी और मुंह के छाले हो जाते हैं। यह रोग पेट में अत्यधिक अम्ल उत्पादन का कारण बनता है। यह समस्या ज्यादा वसा वाला खाना खाने, भेड़ के बच्चे की चीजें खाने, ज्यादा मिर्च खाने से होती है।

एक चम्मच नींबू का रस, एक चम्मच अदरक का रस, थोडा़ सा हरा धनिया, थोडी़ सी काली मिर्च, जीरा, लहसुन, सौंफ को मिलाकर इसकी चटनी बनाकर खाने के साथ लें, इससे एसिडिटी नहीं होती है।

एसिडिटी से छुटकारा पाने के लिए एक चम्मच अदरक का रस, एक चुटकी सेंधा नमक और दो चम्मच नींबू का रस मिलाकर पीने से लाभ होता है।

एक गिलास पानी में एक नींबू का रस, चार से पांच बूंद अजमा के पत्ते का रस और एक चम्मच अदरक का रस मिलाकर पीने से एसिडिटी में निश्चित रूप से लाभ होता है।

राजस्थान में एक ही परिवार के 4 सदस्यों सहित 9 लोग जबकि महाराष्ट्र में 8 मामलों की पुष्टि हुई; जामनगर में ओमिक्रॉन के संपर्क…

4. पेट के कीड़ों से छुटकारा पाने के लिए करें नींबू का इस्तेमाल

यह समस्या पाचन से जुड़े विकारों का कारण बनती है। त्वचा पीली पड़ने लगती है। उल्टी होती है, पेट के निचले हिस्से में दर्द होता है। पेट में छोटे-छोटे कीटाणु पैदा होते हैं और धीरे-धीरे बड़े कीड़े बन जाते हैं।

2 ग्राम करेले का रस, एक चम्मच नीम का रस, आधा चम्मच लहसुन का रस, एक चम्मच सोंठ का चूर्ण, दो चम्मच नींबू का रस मिलाकर बच्चे को दिन में चार बार दें। बच्चे के पेट से मल के साथ कीड़ा निकल जाएगा।

अनार की 20 ग्राम जड़ लेकर आधा लीटर पानी में उबाल लें, 100 ग्राम पानी रह जाने पर इसमें एक नींबू डालकर उबाल लें। दो से तीन चम्मच दिन में तीन से चार बार देने से कीड़े मर जाते हैं।

नींबू के रस में 20 ग्राम पुदीने के पत्ते और पांच काली मिर्च के बीज मिलाकर चटनी बना लें। इस चटनी के सेवन से कीड़े मर जाएंगे और मल के साथ बाहर निकल जाएंगे।

5. उल्टी/उल्टी की समस्या में नींबू के फायदे

दो चम्मच अनार के बीज के रस में एक चम्मच नींबू का रस मिलाकर पीने से उल्टी से छुटकारा मिलता है।

आधा चम्मच हरे धनिये का रस, एक चम्मच शहद और दो चम्मच नींबू का रस मिलाकर पीने से उल्टी से आराम मिलता है।

नींबू के पेड़ की जड़ों को पानी में उबालकर पीने से उल्टी बंद हो जाती है।

सफेद जीरा, तली हुई लौंग और काली मिर्च के पाउडर में नींबू का रस मिलाकर पीने से उल्टी आती है।

दो चुटकी काली मिर्च का पाउडर, आधा चम्मच बेजोरा का रस और एक चम्मच शहद मिलाकर सभी चीजों को मिलाकर चाट लें।

6. पैच / ट्विस्ट में नींबू के फायदे

शौच के दौरान या पहले आंतों में दर्द। इस रोग को आक्षेप कहते हैं। यह रोग खट्टा और अधिक मिर्च खाने से होता है। इसके उपाय के रूप में निम्नलिखित घरेलू उपाय करें।

आधे नींबू में दो काली मिर्च, एक चुटकी तिल और एक बूंद पुदीना का अर्क मिलाकर लगाने से इस रोग में लाभ होता है।

नींबू के रस में दो छोटे झुण्ड, 10 ग्राम सौंफ, 2 ग्राम जीरा और दो चुटकी सेंधा नमक मिलाकर चटनी बना लें। इस चटनी के दो भाग बनाने के लिए एक भाग सुबह और एक भाग शाम को भोजन से पहले लें। यह प्रयोग दर्द को दूर करता है।

7. अतिसार – दस्त में नींबू का प्रयोग और नींबू के फायदे

बार-बार दस्त होना। अतिसार पतला, पीला, हरा या सफेद रंग का होता है। पेट में दर्द। कभी-कभी मल के साथ खून भी आता है। ऐसे समय में निम्न उपचार करना चाहिए।

2 चम्मच नींबू का रस, 2 चम्मच पालक का रस, 2 चम्मच फूलगोभी का रस लें और इसे थोड़ी सी हिंग और चुटकी के साथ पिएं।

2-3 ग्राम जीरा, सौंफ, लौंग और अनार के दाने लेकर चूर्ण बना लें। इस चूर्ण में 1 चम्मच अनार के बीज का रस और 1 चम्मच नींबू का रस मिलाकर सुबह-शाम सेवन करने से अतिसार ठीक हो जाता है।

8. हैजा में नींबू के फायदे

दस्त और उल्टी होती है, पेट और आंतों में दर्द होता है। बेचैन महसूस कर रहा है. यह रोग बरसात के मौसम के अंत में और अत्यधिक गर्मी के प्रभाव के कारण होता है।

रोगी को थोड़ा सा पानी और नींबू का रस पिलाना चाहिए।

नींबू के रस की एक कक्षा में एक चम्मच प्याज का रस मिलाकर रोगी को बार-बार पिलाने से हैजा को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।

नींबू के रस में 3 ग्राम कपूर और दो चम्मच अजमा का चूर्ण मिलाकर पीने से बहुत लाभ होता है।

2 टेबल स्पून नींबू का रस, 2 ग्राम अजमा पाउडर, 2 टेबल स्पून छोटी जड़ी बूटी, अदरक, लिंडी काली मिर्च, सादा नमक, सिंध नमक, संचाल और मदार कडी 10-10 ग्राम लें और हर दो घंटे में 2-3 गोलियां देकर लसोटी की छोटी-छोटी गोलियां बना लें। हैजा फाइटोफ्थोरा के कारण होता है।

डॉक्टर ने अपनी पत्नी और दो बच्चों की बेरहमी से हत्या कर दी; लिखा- अब लाशों की गिनती नहीं, ओमिक्रॉन किसी को नहीं छोड़ेगा

9. अपच/अपच में नींबू के फायदे

भरा हुआ महसूस होना या भूख लगना, खट्टी डकारें आना, पेट और आंतों का खराब पाचन, शरीर में भारीपन महसूस होना। बिना लक्षणों के। तब निम्नलिखित उपचार राहत लाते हैं।

अदरक को छोटे छोटे टुकड़ों में काट कर एक चुटकी नमक डाल कर मिला दीजिये, टुकड़ों पर नींबू का रस डाल कर रोज खाने के साथ सेवन कीजिये.

आधा चम्मच अदरक का पाउडर, थोड़ा सा जीरा, एक चुटकी हींग और दो चुटकी सेंधा नमक मिलाएं। इस चूर्ण में आधा नींबू का रस मिलाकर रोजाना सेवन करने से लाभ होता है।

आधा चम्मच अदरक का रस, एक चुटकी सेंधा नमक और आधा नींबू का रस पीने से पाचन तेज होता है और भोजन का पाचन तेज होता है।

10. भंडारण में नींबू के फायदे

बार-बार दस्त, मल जैसे चिपचिपे पदार्थ के साथ। यह समस्या आंतों में खराबी के कारण होती है।

लिंडी मिर्च को नींबू के रस में मलने से इस समस्या से छुटकारा मिलता है।

दस ग्राम केले की जड़ की सूखी जड़, अनार के पौधे की जड़ और नींबू की जड़ को लेकर पीसी हुई चूर्ण बना लें। थोडी़ सी चीनी केसर डालकर फिर से पाउडर को पीस लें। आधा चम्मच चूर्ण नींबू पानी के साथ लेने से कब्ज दूर होती है।

जायफल को नीबू के रस में मलने से जमाव दूर होता है।

11. त्वचा रोगों में नींबू के फायदे

डर्मेटाइटिस मुख्य रूप से रक्त विकार/रक्त विकार के कारण होता है। खाने में गर्म मसालों का ज्यादा सेवन भी एक समस्या है। नींबू का रस केवल रोगजनक कीटाणुओं को मारता है खाली पेट नींबू का उपयोग करना अधिक फायदेमंद होता है।

नींबू को आधा काट लें, नमक डालें और नींबू को सुखा लें। सूखे नींबू को चीनी के साथ पीस लें। रक्तस्राव, खुजली और खुजली में इस चूर्ण का सेवन करने से लाभ होता है।

एक स्क्वैश छीलें, इसे कद्दूकस कर लें और रस निचोड़ लें। इस पोटाश को गर्म करके शरीर के किसी अंग पर बांधने या रगड़ने से कीटाणुओं और जहरीले कीड़ों के स्पर्श से उत्पन्न काले धब्बे भी कुछ ही दिनों में दूर हो जाते हैं।

इमली के पेस्ट को नींबू के रस में मलने से स्कैल्प पर मलने से खुजली दूर हो जाती है।

सिर में नींबू का रस डालकर अच्छी तरह से मलने के बाद गर्म पानी से नहाने से बालों की गंदगी और बालों का रूखापन दूर हो जाता है। बाल चिकने और चिकने हो जाते हैं।

12. मुंह के रोगों में नींबू

5 से 20 ग्राम ताजा नींबू का रस, 15 से 20 ग्राम चीनी 500 ग्राम पानी में मिलाकर सुबह-शाम पीने से 15-20 दिनों में पायरिया ठीक हो जाता है।

नींबू के रस को उंगलियों पर लगाकर मसूड़ों पर मलने से मसूढ़ों से खून आना बंद हो जाता है।

अरंडी के तेल, कपूर और नींबू के रस को रोजाना मसूड़ों पर मलने से बहुत फायदा होता है।

नींबू के रस में 2-3 लौंग डुबोएं और उसके रस को दांतों और मसूढ़ों पर मलने से दांत दर्द और दांत दर्द से छुटकारा मिलता है।

13. कान और बुखार आदि में नींबू का प्रयोग।

साजिखर को नींबू के रस में मिलाकर कान में डालने से कान से बहने वाला मवाद बंद हो जाता है। कान परिपक्व हो जाते हैं।

200 ग्राम नींबू के रस में 50 ग्राम सौंफ या तिल का तेल मिलाकर उबाल लें। नींबू का रस जलने पर पक जाता है। इसे किसी छानी हुई बोतल में भर लें। इस तेल की दो बूंद प्रतिदिन कान में डालने से कान से निकलने वाला टीका बंद हो जाता है, कान का दर्द दूर हो जाता है, कान में खुजली बंद हो जाती है और कान का बहरापन भी दूर हो जाता है।

20 ग्राम तिल का तेल, लहसुन की पांच कलियां और एक नींबू का रस।

एक नींबू का रस निकाल कर छान लें, मूली का रस और फर्न का तेल मिलाकर दो बूंद कान में डालें। कान का मवाद बहरेपन में बेहतरीन परिणाम देता है।

नींबू के खट्टे में ठंडक पैदा करने का विशेष गुण होता है, जो गर्मी से बचाता है। बुखार में जब मुंह की लार ग्रंथियां लार का उत्पादन बंद कर देती हैं तो मुंह सूख जाता है। ऐसे समय नींबू का रस पीने से लार ग्रंथियां सक्रिय हो जाती हैं। नींबू गर्मी की अन्य बीमारियों से भी बचाता है। लेमन एगेव भी मलेरिया बुखार के लिए एक उपाय है।

14. इन्फ्लुएंजा में नींबू के फायदे

यह बुखार लगातार सिरदर्द का कारण बनता है। शरीर में दर्द होता है। बुखार की शुरुआत के साथ ही शरीर बेहद गर्म हो जाता है। जीभ पर सफेद लकीर होती है, लक्षण दिखाई देते हैं।

उपचार:

एक चम्मच नींबू के रस में थोड़ी सी फिटकरी और आधा चम्मच अदरक का चूर्ण मिलाकर सुबह-शाम इस काढ़े का सेवन करें।

एक चम्मच नींबू के रस में तुलसी के पत्तों के रस की 10 बूंदें डालें, चार रंग की काली मिर्च का पाउडर और उतनी ही मात्रा में लिंडी काली मिर्च का पाउडर मिलाएं, इसे थोड़ा गर्म करके सुबह-शाम सेवन करें।

15. निमोनिया में नींबू के फायदे और उपयोग

इस रोग में अचानक बुखार आने लगता है, सर्दी-जुकाम दूर हो जाता है। निम्नलिखित करने के लिए।

रोगी को गर्म स्थान पर लिटाएं। फिर इसमें अलसी का पेस्ट और नींबू के रस की 8-10 बूंदें मिलाकर दोनों पसलियों पर मलें।

नीम की छाल, त्रिकुटु और इंद्रजाव का काढ़ा बना लें और ठंडा होने के बाद इसे छानकर इसमें दो चम्मच नींबू का रस मिलाकर सुबह-शाम सेवन करें।

16. चक्कर आना

निम्न रक्तचाप, पेट फूलना और अपच के कारण चक्कर आ सकते हैं। निम्नलिखित करने के लिए।

नींबू के रस में धनिया और चीनी मिलाकर चाटने से चक्कर आना बंद हो जाता है।

नींबू के रस में हल्दी पाउडर मिलाकर सिर पर लगाने से चक्कर आना बंद हो जाता है।

तरबूज के बीजों को पीसी देसी घी में भूनकर इसमें नींबू का रस मिलाकर लगाने से आराम मिलता है।

काली मिर्च और चीनी में दो चम्मच नींबू का रस मिलाकर पीने से चक्कर आना बंद हो जाएगा।

इन तीन राशियों के मन में नहीं है द्वैत, शत्रुओं को कर देते हैं क्षमा

17. सर्दियों में नींबू के फायदे

एक चम्मच अदरक का रस, 2 लौंग का पाउडर, 2 काली मिर्च का पाउडर, चार बड़े तुलसी के पत्तों का रस और एक चम्मच नींबू का रस मिलाकर पीएं।

चार नींबू के पत्ते, चार आंवले के पत्ते और दो लौंग के साथ एक सॉस बनाएं। ऐसी चटनी को दो दिन सुबह-शाम चाटने से सर्दी में लाभ होता है।

अदरक के पाउडर को आधा कप पानी में उबाल लें। इस पानी को छानकर इसमें एक चम्मच नींबू का रस और थोड़ा सा गुड़ मिलाकर पीने से सर्दी-जुकाम में जल्दी आराम मिलता है।

18. बालों के झड़ने को रोकने के लिए नींबू के फायदे

पौष्टिक भोजन की कमी, बुखार, ठंड लगना, शारीरिक अक्षमता, बालों का झड़ना।

नीम के पत्तों को पानी में उबालकर उसमें नींबू का रस मिलाकर सिर को धो लें इससे बाल झड़ना बंद हो जाते हैं।

दो आंवले में 1 नीबू का रस मिलाकर चटनी बना लें, इस बारीक चटनी को मलहम की तरह बालों में लगाएं.

100 ग्राम तिल का तेल, 50 ग्राम चमेली का तेल, 5 ग्राम बादाम का तेल, 20 ग्राम खोपरा और दो चम्मच नींबू का रस। नहाने के बाद इस तेल को बालों की जड़ों में लगाएं। बाल झड़ना और सफेद होना बंद हो जाते हैं।

19. वजन घटाने के लिए नींबू के फायदे

मूली के रस में नींबू का रस और थोड़ा सा नमक नियमित रूप से मिलाने से वजन घटाने और चर्बी घटाने में मदद मिलती है।

नींबू के रस में आधा चम्मच तुलसी के पत्ते का रस मिलाकर कुछ दिन सुबह सेवन करें।

सुबह खाली पेट एक गिलास गर्म पानी में नींबू का रस और काली मिर्च का पाउडर मिलाकर पिएं।

सुबह खाली पेट एक गिलास गर्म पानी में एक नींबू डुबोकर उसमें थोड़ा सा नमक मिलाकर पीने से लाभ होता है।

नींबू के अन्य फायदे और नींबू का इस्तेमाल

नींबू के फायदे नींबू के छिलके के फायदे 20 घरेलू नुस्खों में नींबू का इस्तेमाल
नींबू के फायदे नींबू के छिलके के फायदे 20 घरेलू नुस्खों में नींबू का इस्तेमाल

रोज नींबू खाने से क्या होता है?

नींबू के फायदे नींबू से है भूख बढ़ाने के फायदे

नींबू और अदरक को बराबर मात्रा में लेकर एक बाउल में सेंधा नमक, सौंफ, हींग और चीनी डालकर मिला लें और उबाल लें।

इसे कुछ देर उबलने दें। फिर इसे नीचे उतार लें, गर्म होने पर ही इसे कपड़े से छान लें, जब यह ठंडा हो जाए तो इसे किसी बोतल में भरकर रख लें।

इस चाशनी को 2 ग्राम लेकर दो गिलास पानी में डालकर पीने से अपच, हैजा, अतिसार, अरुचि, कब्ज आदि दूर हो जाते हैं और भूख भी बढ़ती है।

कुष्ठ रोग के लिए नींबू प्रयोग

नींबू का रस, चीनी और पानी मिलाकर इस मिश्रण को सुबह-शाम पीने से पंद्रह-बीस दिन में कुष्ठ रोग ठीक हो जाता है।

नींबू का रस कुष्ठ रोग में उत्तम माना जाता है। इस रोग में मसूड़े ढीले हो जाते हैं और उनमें से खून निकलने लगता है।

नींबू के रस से कुल्ला करना बहुत फायदेमंद होता है।

एनोरेक्सिया और उल्टी के लिए नींबू के फायदे

पका हुआ नींबू लें, उसका रस निकाल लें, उसमें चीनी डालकर उबाल लें और चाशनी बना लें।

चाशनी के गर्म होने पर ही इसे किसी कपड़े से छानकर ठंडा कर लें, फिर इसे किसी बोतल में भर लें.

इस चाशनी के दो से तीन चम्मच एक गिलास पानी में डुबोकर पीएं।

पाचन में मदद करता है

पाचन की समस्या बहुत से लोगों को होती है लेकिन अगर आप थोड़े से गुनगुने पानी में एक नींबू निचोड़ लें तो उस पानी को पीने से पाचन संबंधी समस्याएं नहीं होती हैं। इस पानी को रोज सुबह पीना चाहिए।

इस गुनगुने पानी में नींबू का रस मिलाकर पीने से शरीर से विषाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं।

अगर आपको गुनगुने पानी में ताजा नींबू पसंद नहीं है, तो आप इसमें स्वाद के पाउच मिला सकते हैं जो इसे स्वादिष्ट बनाने के साथ-साथ पाचन तंत्र को भी फायदा पहुंचाएगा।

नींबू के फायदे बुखार से बचाते हैं

आपको जानकर हैरानी होगी कि गुनगुने पानी में नींबू का रस मिलाकर पीने से सामान्य बुखार, सर्दी और खांसी की समस्या होने की संभावना कम हो जाती है।

इसका मुख्य कारण नींबू के अंदर मौजूद साइट्रिक एसिड है जो आपके गले के अंदर किसी भी तरह के संक्रमण की संभावना को कम करता है।

गुर्दे की पथरी को रोकता है

अगर आप रोज सुबह गुनगुने पानी में नींबू का रस पीते हैं तो इससे किडनी स्टोन नहीं होता है।आंतरिक साइट्रिक एसिड शरीर के अंदर स्टोन को बनने नहीं देता है।

नींबू पथरी की समस्या में बहुत अच्छा होता है क्योंकि यह कोशिकाओं को बढ़ने नहीं देता है।

शरीर को डिहाइड्रेशन से बचाता है

अगर हमारा शरीर निर्जलित हो जाता है तो हमारा मुंह सूखना शुरू हो जाता है और बार-बार पानी पीने से पेशाब और अन्य संबंधित समस्याएं हो जाती हैं।नींबू ऐसी समस्याओं के लिए एक उत्कृष्ट उपाय है।

अगर आप फलों और सब्जियों का सलाद बनाकर उसमें नींबू का रस मिलाएं तो आपको डिहाइड्रेशन और मुंह सूखने की समस्या से निजात मिल जाएगी।

नींबू के छिलके के फायदे

नींबू के फायदे नींबू के छिलके के फायदे 20 घरेलू नुस्खों में नींबू का इस्तेमाल
नींबू के फायदे नींबू के छिलके के फायदे 20 घरेलू नुस्खों में नींबू का इस्तेमाल

नींबू के छिलके को जूतों पर कुछ देर के लिए रगड़ें और फिर धूप में सूखने दें। जूते चमक उठेंगे।

दांतों का पीलापन दूर करने के लिए नींबू के छिलके को रोजाना कई बार दांतों पर मलने से पीलापन दूर होता है।

अगर घर में चीटियां हैं तो नींबू के छिलके को उस जगह पर मलने से चीटियों का प्रकोप दूर हो जाएगा। आप नींबू के छिलके को सुखाकर इस चूर्ण को चीटियों पर छिड़क सकते हैं।

एक स्क्वैश छीलें, इसे कद्दूकस कर लें और रस निचोड़ लें। चायदानी चमक उठेगी।

आधा चम्मच बेकिंग सोडा नींबू के छिलके में मलने से कोहनियों के ब्लैकहेड्स दूर हो जाते हैं।

एक स्क्वैश छीलें, इसे कद्दूकस करें और रस निचोड़ें। दूध, जैतून का तेल और नींबू का रस डालें।

आइए आज हम आपको ऐसे ही छोटे लेकिन बेहद जरूरी घरेलू उपायों के बारे में बताते हैं। जिसने, वीडियो को रातों-रात सनसनी बना दिया।

घरेलू उपचार में नींबू के उपयोग की जानकारी

नींबू के फायदे नींबू के छिलके के फायदे 20 घरेलू नुस्खों में नींबू का इस्तेमाल
नींबू के फायदे नींबू के छिलके के फायदे 20 घरेलू नुस्खों में नींबू का इस्तेमाल

नींबू का अचार खाने या इसका शरबत पीने से मिठाई या घी खाने से होने वाली अपच दूर हो जाती है।

चूंकि शरीर का स्वास्थ्य रक्त की शुद्धता पर निर्भर करता है, इसलिए नींबू स्वास्थ्य की रक्षा करने में मदद करता है। यह पाचक रसों को उत्तेजित करता है। मंदगनी वाला नी भुख जगदे चे। और पाचन में मदद करता है।

नींबू का रस भले ही खट्टा होता है, लेकिन इसमें खून की खटास को दूर करने के विशेष गुण होते हैं। इसका रस कुष्ठ और स्कर्वी में लाभकारी होता है।

एक भाग नींबू का रस और छह भाग चाशनी लें, उसमें लौंग और काली मिर्च का पाउडर डालकर चाशनी में पिएं। और खाना पचने में आसान रहता है।

30 पके नींबू लें और रस को एक कटोरे में निचोड़ लें। फिर इसे उबालकर इसमें चालीस तोले शहद मिलाकर गाढ़ा कर लें।

फिर इसमें एक पौंड इलायची के दाने का पाउडर डालकर एक एयर टाइट बोतल में भरकर रख लें।

इसे सप्ताह दर सप्ताह खर्च करें। यह सिरका पित्त की जलन से राहत देता है, खांसी को ठीक करता है और भूख को उत्तेजित करता है।

घरेलू उपचार में नींबू के उपयोग की जानकारी

नींबू के फायदे नींबू के छिलके के फायदे 20 घरेलू नुस्खों में नींबू का इस्तेमाल
नींबू के फायदे नींबू के छिलके के फायदे 20 घरेलू नुस्खों में नींबू का इस्तेमाल

एक नींबू को चार टुकड़ों में काट कर कांच के बर्तन में निकाल लीजिये, नमक, काली मिर्च और अदरक पाउडर डाल कर धूप में रख दीजिये.

कुछ ही दिनों में नमक के संयोग से नींबू निगल जाएगा। इस नींबू को खाने से अपच, लार और स्वादहीनता दूर होती है।

एक गिलास पानी में एक नींबू का रस निचोड़ें और उसमें थोड़ी सी चीनी मिलाकर पिएं।

नीबू को क्षैतिज रूप से काटिये, दो अंश बनाइये, इसमें थोड़ा सा अदरक और नमक डाल कर गरम कीजिये और इसका रस चूसिये.

जिन लोगों को दूध पचने में परेशानी होती है, उन्हें एक गिलास पानी में आधा नींबू डुबोकर पीने से फायदा हो सकता है।

ठंडे पानी में नींबू और प्याज का रस मिलाकर पीने से अपच का दस्त ठीक हो जाता है। और यह जूस हैजा में भी बहुत फायदेमंद होता है।

नींबू की जड़, अनार की जड़ और केसर को पानी में मिलाकर पीने से दस्त ठीक हो जाते हैं।

दो चम्मच नींबू का रस और दो चम्मच अदरक के रस में थोड़ी सी चीनी मिलाकर पीने से पेट का दर्द दूर हो जाता है।

नींबू के उपयोग की जानकारी

नींबू के फायदे नींबू के छिलके के फायदे 20 घरेलू नुस्खों में नींबू का इस्तेमाल
नींबू के फायदे नींबू के छिलके के फायदे 20 घरेलू नुस्खों में नींबू का इस्तेमाल

रात को सोते समय गर्म पानी में नींबू का रस डुबोकर पीने से पुरानी सर्दी में बहुत लाभ होता है।

नींबू के रस में शहद मिलाकर पीने से किसी भी प्रकार की खांसी ठीक हो जाती है और दमा का दौरा तुरंत दबा दिया जाता है और राहत मिल जाती है।

शहद और पीलिया के साथ नींबू का रस पीने से पेचिश और पानी में नींबू का रस और थोड़ी सी काली मिर्च का पाउडर मिलाकर पीने से लीवर की समस्या में लाभ होता है।

शरीर में होने वाली खुजली को दूर करने के लिए नीबू को काटकर दो भागों में काट लें और उसमें सेंधा नमक मिलाकर सुखा लें। जब नींबू सूख जाए तो इसे बारीक पीस लें।

इस चूर्ण को पानी के साथ लेने से खुजली में बहुत लाभ होता है।

Limbu Ke Gharelu Upchar

नींबू के फायदे नींबू के छिलके के फायदे 20 घरेलू नुस्खों में नींबू का इस्तेमाल
नींबू के फायदे नींबू के छिलके के फायदे 20 घरेलू नुस्खों में नींबू का इस्तेमाल

नींबू का रस, चीनी और पानी मिलाकर एक महीने तक रोज रात को पीने से पुरानी कब्ज दूर होती है और आंत साफ होती है और शरीर में स्फूर्ति आती है।

नींबू के रस में बुखार आने से मूत्र मार्ग की सूजन दूर होती है और पेशाब खुलकर आता है। नींबू के रस में सेंधा नमक मिलाकर नियमित पीने से पथरी गल जाती है।

Limbu ke fayde gharelu Upchar me

नींबू के फायदे नींबू के छिलके के फायदे 20 घरेलू नुस्खों में नींबू का इस्तेमाल
नींबू के फायदे नींबू के छिलके के फायदे 20 घरेलू नुस्खों में नींबू का इस्तेमाल

नींबू के बीजों को आधी चीनी में डुबोकर ठंडे पानी में डुबोया जाता है और ऊपर से ठंडे पानी के साथ छिड़का जाता है।

लिम्बु ना फ़यदा नींबू के रस को उंगलियों पर लेकर दांतों पर मलने से मसूढ़ों से खून आना बंद हो जाता है।

नींबू के रस में तिल का तेल या तिल का तेल डालकर उबाल लें और छानी हुई बोतल में डालकर पका लें।

इसकी दो-दो बूंद कान में डालने से कान का रोग, सोरायसिस और कान का दर्द दूर हो जाता है साथ ही कान का बहरापन भी दूर हो जाता है।

नींबू का सेवन करने के नुकसान।

नींबू के फायदे नींबू के छिलके के फायदे 20 घरेलू नुस्खों में नींबू का इस्तेमाल
नींबू के फायदे नींबू के छिलके के फायदे 20 घरेलू नुस्खों में नींबू का इस्तेमाल

अधूरी और अपर्याप्त जानकारी या रोग के बारे में पर्याप्त जानकारी के अभाव में नींबू के सेवन से कुछ नुकसान हो सकता है। जो निम्नलिखित है।

नींबू के अधिक सेवन से दांतों और मसूड़ों में खटास आ सकती है।

संवेदनशील त्वचा पर नींबू का प्रयोग न करें। इससे त्वचा पर धब्बे और त्वचा में जलन हो सकती है।

नींबू को विटामिन-सी का स्रोत माना जाता है। इसलिए अगर ज्यादा नींबू का इस्तेमाल किया जाए तो दस्त और पेट की समस्या का सामना करना पड़ता है।

लिम्बु के बारेमे पूछेजाते प्रश्न

नींबू के फायदे नींबू के छिलके के फायदे 20 घरेलू नुस्खों में नींबू का इस्तेमाल
नींबू के फायदे नींबू के छिलके के फायदे 20 घरेलू नुस्खों में नींबू का इस्तेमाल

क्या मुंहासों और दाग-धब्बों पर नींबू का इस्तेमाल किया जा सकता है?

नींबू के रस में एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं जो मुंहासों को दूर करने और रोकने में मदद करते हैं।आप चाहें तो टी ट्री ऑयल को नींबू के रस में मिलाकर चेहरे पर लगा सकते हैं।

भोजन के बाद नींबू खाने के क्या फायदे हैं?

अक्सर लोग नींबू का इस्तेमाल खाना पचाने के लिए करते हैं जो कई लोगों के पाचन में काफी मददगार होता है जबकि कुछ लोगों के पेट में एसिड और पेट खराब हो जाता है जो आपके शरीर के प्रभाव पर निर्भर हो सकता है।

क्या गिरते बालों के लिए नींबू कारगर है?

नींबू का रस आपके बालों की हर समस्या को दूर करता है नींबू में विटामिन-सी अच्छी मात्रा में होता है जो बालों को मजबूत बनाता है।

Limbu na fayda in Hindi,Lemon health benefits in Hindi, नींबू के सेवन के फायदे, घरेलू नुस्खे में इसके इस्तेमाल, नींबू के छिलके के फायदे, नींबू के रस के फायदे, नींबू के फायदे,

हिंदी में लिम्बु के फायदे, हिंदी में नींबू के स्वास्थ्य लाभ, कृपया जानकारी पर टिप्पणी जरूर करें।

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों व दावों की लाइव गुजराती न्यूज़ पुष्टि नहीं करता है. इनको केवल सुझाव के रूप में लें. इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें.

ऎसेही अन्य जानकारी के लिए आप हमारे साथ सोसियल मिडिया के माध्यम से हमारे साथ जुड़ सकते हैं , असेही लेखो की जानकारी के लिए हमारे साथ जुड़े

हमारे सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।

Facebook | Instagram | Twitter

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments